Feedback Us !

Checking...

Ouch! There was a server error.
Retry »

Sending message...

Review It !

0 100

Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide

Mokshesh Seth Diksha

१००० करोड़ की संपत्ति को छोड़ मोक्षेश चले धर्मं का “AUDIT” करने

एक समृद्ध मुंबई स्थित व्यापारिक परिवार से 24 वर्षीय चार्टर्ड अकाउंटेंट ने करोड़ों के भाग्य को त्यागने का फैसला किया है, और जैन समुदाय को खुद को समर्पित करके उद्धार प्राप्त करने का फैसला किया है। मोक्षेश शेठ, जिसका परिवार जे.के निगम का मालिक है, जिसकी हिरा, धातु और चीनी उद्योगों का व्यापार है, शुक्रवार २०-०४-२०१८ सुबह गांधीनगर-अहमदाबाद रोड पर तपोवन सर्कल में आयोजित एक विस्तृत समारोह में एक जैन साधु बन गए।

मोक्षेश, जो एक बहुत बेहेतरीन अकादमिक रिकॉर्ड रखते हैं, कहते हैं कि वह अकाउंट्स बुक्स के जरिए व्यापर के बजाय एक विनम्र छात्र के रूप में धर्मं का “ऑडिट” करना चाहता है। “मैं लगभग १५ वर्ष का था जब मैंने पहली बार जैन भिक्षु बनने के बारे में सोचा था। मैंने आंतरिक शांति की लालसा की, जो भौतिक संसार प्रदान नहीं करता था, “उन्होंने कहा, और कहा कि वह केवल अपने लिए ही नहीं, सभी के लिए खुशी चाहता है।

उनका परिवार मूल रूप से उत्तर गुजरात में देसा से है और अब ६० से अधिक वर्षों से मुंबई को अपना घर बना दिया है। उनके पिता संदीप और चाचा गिरीश शेठ अभी भी मुंबई में एक संयुक्त परिवार में रहते हैं।

Vyaktitv(Chief Patron)
slide
slide
slide
slide
slide
Shraddhanjali
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
News
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Suvichar
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide