Feedback Us !

Checking...

Ouch! There was a server error.
Retry »

Sending message...

Review It !

0 100

Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide

Shree Parshv Bhairav Darbar Ostra Tirth(Rajasthan) Bhayandar-Mumbai organises PanchTirthi to Rajasthan

 

श्री पार्श्व भैरव दरबार ओस्तरा तीर्थ (राजस्थान) भायंदर-मुंबई द्वारा

श्री ओस्तरा तीर्थ में भव्य अट्टम तप की आराधना व पंचतीर्थी यात्रा का आयोजन

ओस्तरा तीर्थ : श्री पार्श्वनाथ भगवान के जन्म व दीक्षा कल्याणक के शुभ अवसर पर श्री पार्श्व भैरव दरबार ओस्तरा तीर्थ (राज.) भायंदर -मुंबई द्वारा श्री ओस्तरा तीर्थ में भव्य अट्टम तप की आराधना आचार्य भगवंत श्रीमद् विजय धर्मधुरंधरसूरीश्वरजी म.सा. के आशीर्वाद व साध्वी श्री सौम्य प्रभाश्रीजी व सौम्य दर्शनश्रीजी म.सा. की प्रेरणा से प.पू. प्राभावक प्रवचनकार आ. श्रीमद् विजय उदयकीर्ति सागर सूरीश्वरजी म.सा. के शिष्यरत्न , प.पू. गुरुकृपा प्राप्त प्रवचन प्रभावक मुनि श्री विश्वोदयकीर्ति सागरजी म.सा. (वीके गुरूजी) आदि ठाणा की पावनकारी निश्रा में होने जा रहा है| इस मंडल के स्थापक किरणजी फुटरमलजी मरलेचा (चाणोद निवासी) की देख रेख में होने जा रहा है|

दिनांक  ७.१२.२०१७ पोष वदी ५,गुरूवार दोपहर ३ बजे को बान्द्रा टर्मिनस से राणकपुर एक्सप्रेस द्वारा आबू रोड के लिए प्रस्थान होंगे | वहां से दिनांक ८-१२-२०१७ , शुक्रवार को बस द्वारा श्री जिरावला पार्श्वनाथ तीर्थ के लिए प्रस्थान होंगे| प्रात: सेवा पूजा – प्रभु दर्शन, नवकारशी व थाल अर्पण करके दोपहर में भेरूतारक तीर्थ के लिए प्रस्थान व थाल अर्पण करना| तीर्थ में देव दर्शन करके ३ बजेअवापुरी तीर्थ के लिए पहुंचेगे वहा थाल अर्पण करके चौविहार करके श्री नाकोड़ाजी तीर्थ में रात्री विश्राम होगा| दिनांक ९-१२-२०१७, शनिवार को नाकोड़ाजी में प्रात: सेवा पुजा-दर्शन नवकारशी व थल अर्पण करके दोपहर का भोजन करके १२.१५ जोधपुर के लिए प्रस्थान मध्य में तीर्थों पर देव दर्शन करते हुए मुथाजी मंदिर (पावटा) सायं का चौविहार करके सायं ६:०० बजे    ओसियाजी तीर्थ के लिए प्रयाण व रात्री विश्राम होगा| अगले दिन १०-१२-२०१७ रविवार ओसियाजी तीर्थ मे प्रात: सेवा-पूजा -देव दर्शन, नवकारशी व थाल अर्पण करके सुबह ९:३० बजे ओस्तरा तीर्थ के लिए प्रस्थान, दोपहर का    भोजन व सायं का उत्तर पारणा, रात्रि भक्ति भावना (संगीतकार – बीकानेर के सुप्रसिद्ध श्री विनोदजी सेठिया व सुनील पारेख होंगें) और रात्रि में विश्राम होगा| अगले दिन दिनांक ११.१२.२०१७ सोमवार को अट्टम तप का प्रथम दिन अट्ठारह अभिषेक व रात्री भक्ति भावना (संगीतकार – श्री   संजय रांका एंड ग्रुप ,मुंबई) , अगले दिन दिनांक १२.१२.२०१७  मंगलवार को अट्टम तप का द्वितीय दिन श्री १०८ पार्श्व भावना (विधिकारक – श्री मोतीलालजी देसुरी वाले पधारेंगे) व रात्रि में भक्ति भावना| अगले दिनांक १३.१२.२०१७ , बुधवार को अट्टम तप के तृतीय दिन दोपहर १२:३९ बजे सामूहिक श्री बटुक भैरव चालीसा मंत्र जाप व रात्रि भक्ति भावना| दिनांक १४.१२.२०१७ , गुरूवार को सेवा-पूजा दर्शन करके अट्टम तप का पारणा होगा तथा संपूर्ण दिवस तीर्थ में स्थिरता होगी|

अगले   दिन दिनांक १५.   १२.२०१७ , शुक्रवार ओस्तराजी तीर्थ पर प्रात : सेवा  पूजा – देवदर्शन करके नवकारशी , दोपहर का भोजन करके जोधपुर के लिए प्रस्थान ,जोधपुर में श्री केसरिया कुन्थुनाथजी मंदिर में देव-दर्शन व सायं का चौविहार |सायं ६ बजे जोधपुर से सूर्य  नगरी द्वारा मुंबई के लिए प्रस्थान होंगे| इस प्रकार इस पंचतीर्थी यात्राओं का आयोजन होगा|

यह अट्टम तप व पंचतीर्थी यात्रा प्रवास के लाभार्थी परिवारों में स्व. श्रीमती फूलीबाई छगनराजजी  खुमाजी गुर्जर (चामुंडेरी – एरानाकुलम -कोचीन) व जय जिनेन्द्र का लाभ मातुश्री शांताबाई पुखराजजी रतनपुरिया चौहान , सादड़ी राणकपुर निवासी हाल – दादर , मुंबई ने लिया| मेहेंदी व सांझी के  लाभ श्रीमती नयनाबेन बाबूलालजी वरदीचंदजी  चोपड़ा , बाली – अँधेरी तथा किट वितरण का लाभ श्रीमती मोहनिबेन   वक्तावरमलजी धनराजजी रांका , सेवाडी – भांडुप| अट्टम तप के विशिष्ट सहयोगी परिवारों में श्रीमान रामलालजी केसरीमलजी राठोड, खिमाड़ा – मुलुंड , मातुश्री शांतादेवी फ़तेहचंदजी कोठारी , निपल – खार , श्रीमती रमिलाबेन अशोकजी पुनमिया , खुडाला – मीरारोड,   श्री धर्मधुरंधर भक्त मंडल परिवार मुंबई , स्व. श्रीमती सूरजदेवी दुलीचंदजी नाहर. खजवाना – बंगलौर, श्रीमान उमरावसिंह पी ओस्तवाल मंगलवाड – भायंदर , श्रीमती मीना हिराचंद गुलेच्छा , चाणोद – भायखला , अट्टम तप के सहयोगी परिवारों में श्रीमती कंचनबेन बस्तीमलजी राठोड , सेवाडी – भांडुप , मातुश्री राधाबेन मगराजजी चंगनमलजी लोढ़ा , खैरवा – भायंदर , श्रीमती संगीताबेन  राजमलजी गांधी , पाली – मुंबई , सविताबेन देवराजजी कोठारी , कोट-बालियान , अँधेरी , श्रीमती आशा प्रवीण भीमराजजी सुराणा , सेवाड़ी,  श्रीमती चन्द्रकांता जुगराजजी    खांटेड, श्रीमती शंकुनताला हस्तीमलजी दलीचंदजी कासरिया , बेडा – वरली, श्रीमती ललिताबेन ललितजी जगावत , बीजोवा – मुंबई , सौ. ज्योति निलेश व सौ.    शीतल मेहुल  जगावत बीजोवा – मुंबई , मूलचंदजी सुरेन्द्रकुमारजी बद्धानी जैन, बीकानेर , श्रीमती सुनीताबेन  प्योरलालजी चंदनमलजी चंदलिया , नारलाई – भांडुप , मातुश्री पार्वतीबाई     हीरा   चंदजी हकमाजी     तातेड, दांतराई – भायंदर| यह अट्टम तप व पंचतीर्थी यात्रा की व्यवस्था श्री पार्श्वभैरव दरबार ओस्तरा तीर्थ(राजस्थान) कमिटी व श्री जिनेश्वर मंडल-भायंदर द्वारा की गई|

Vyaktitv(Chief Patron)
slide
slide
slide
slide
slide
Shraddhanjali
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
News
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Suvichar
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide