Feedback Us !

Checking...

Ouch! There was a server error.
Retry »

Sending message...

Review It !

0 100

Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide

श्री आर्यसुहस्तीसूरीजी म.सा.

 

श्री आर्यसुहस्तीसूरीजी म.सा.

 

आप भी स्थूलीभद्रसूरीजी के शिष्य व पट्टधर थे| आपके आगे श्री आर्य शब्द यक्षा साध्वी के आश्रम में बड़े होने से जुड़ता है| आपका आश्रम अभ्यास भी ११ अंग व १० पूर्व का था| आपके अवन्ती नगर में आगमन पर आपको देखकर संप्रति राजा को जातीस्मरण ज्ञान हुआ व आपसे प्रतिबोधित होकर उन्होंने जैन धर्म की बहुत ही महान प्रभावना की| आपने २५ वर्ष की आयु में दीक्षा ली व ७५ वर्ष संयम जीवन पालनकर १०० वर्ष की आयु पूर्ण करके उज्जैन में देवलोक हुए| आप ३० वर्ष तक युगप्रधान पद पर रहे|

Vyaktitv(Chief Patron)
slide
slide
slide
slide
slide
Shraddhanjali
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
News
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Suvichar
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide