Feedback Us !

Checking...

Ouch! There was a server error.
Retry »

Sending message...

Review It !

0 100

Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide

श्री चंद्रसूरीजी म.सा.

 

श्री चंद्रसूरीजी म.सा.

 

सोपारक नगर के क्षेष्ठी जिनदत्त के नागेन्द्र, चन्द्र, निवूर्ति व विधाधर चार पुत्र थे| उन चारों ने पुरे परिवार के साथ वज्रसेनसूरीजी के कहने पर की कल से सुकाल होगा तब दीक्षा ली| वीर संवत् ६०६ में इन चारों के नाम से चार कुल हुए उसमें चन्द्रसूरीजी के नाम से चन्द्रकुल की उत्पत्ति हुई जो आज तक चल रहा है| आज श्री श्रमण संघ में दिग्बन्ध के समय कोटिकगन, वैरी शाखा व चंद्रकुल ऐसी परंपरा सुनाई जाती है| इनका जन्म वीर संवत् ५७६ में, दीक्षा संवत् ५९२ में व स्वर्गवास वीर संवत् ६५० में हुआ|

Vyaktitv(Chief Patron)
slide
slide
slide
slide
slide
Shraddhanjali
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
News
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Suvichar
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide