Feedback Us !

Checking...

Ouch! There was a server error.
Retry »

Sending message...

Review It !

0 100

Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide

श्री मुनिसुन्दरसूरीश्वर्जी म.सा.

 

श्री मुनिसुन्दरसूरीश्वर्जी म.सा.

 

जन्म वि.सं. १४३६, दीक्षा -वि.सं. १४४३| ये सहस्त्रवधानी थे| इनमे १०८ अलग-अलग आवाजों को एक साथ पहचाने ककी क्षमता थी| वि.सं. १४७८ में आचार्य पद| इनके उपदेश से चमप्राज, राजा सहस्त्रमल्ल वैराग्य कई राजाओं ने अपने-अपने देश में आमिरी-प्रवर्तन किया| खंभात के बादशाह दफरखान ने इनको “वादीगोकुलसांढ” की एवं दक्षिण प्रांत के पंडितों ने “कालीसरस्वती” की पदवी दी ही| इन्होनें २४ बार विधिपूर्वक सूरीमंत्र की आराधना की| अपने दादा गुरु श्री देवसुन्दरसूरीजी को लिखे गए “विज्ञप्तित्रिवेणी” नामक १०८ हाथ लंबे पात्र में अवर्णीय एवं विद्धजन प्रशंसीय काव्य भेजे गए थे| “त्रैवेधगोष्ठी”, “अध्यात्मकल्पद्रुम” , “उपदेश रत्नाकर”, “संतीकरं स्तोत्र” वैराग्य अनेक ग्रंथो एवं स्तोत्रों की रचना की| वि.सं. १५०३ कार्तिक सुदी एकम को स्वर्गवासी हुए|

Vyaktitv(Chief Patron)
slide
slide
slide
slide
slide
Shraddhanjali
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
News
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Suvichar
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide