Feedback Us !

Checking...

Ouch! There was a server error.
Retry »

Sending message...

Review It !

0 100

Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide

श्री विजयदानसूरीश्वर्जी म.सा.

 

श्री विजयदानसूरीश्वर्जी म.सा.

 

वि.सं. १५५३ में जामला नगर में करमिया गोत्र के विशा ओसवाल शा. जगमाल की पत्नी सूर्यादेवी भ्रमादे की कुक्षी में इनका जन्म हुआ| सं. १५६२ में दीक्षा ग्रहणकर श्री आनंदविमलसूरीजी के शिष्य मुनि उदयधर्म के नाम से जाहिर हुए| सं. १५८७ में सिरोही में आचार्यपद एवं गच्छनायक पद-नाम श्री विजयदानसूरीजी शत्रुंजय के सोलहवें उद्धार में उपस्तिथ थे|

गुरु द्वारा किये गए क्रियोद्वार के बाद आजीवन ५ विगई (घी सिवाय) का त्याग किया| इनके उपदेश से प्रभावित मंत्री गलराज ने सं. १६१९-२० में बादशाह को समझकर ६ महीने तक श्री शत्रुंजय तीर्थ को करमुक्त करवाया था और मंत्री ने प्रत्येक संघ में आमंत्रण पत्रिका लिखकर संघपति बन करके तीर्थोधिराज का छ:री पालित संघ निकाला था| गिरनार वैराग्य तीर्थो के जिणोरद्वार भी इनके उपदेश से हुए थे| ववी.सं. १६२२ वडली में इनका देवलोक गमन हुआ|

Vyaktitv(Chief Patron)
slide
slide
slide
slide
slide
Shraddhanjali
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
News
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Suvichar
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide