Feedback Us !

Checking...

Ouch! There was a server error.
Retry »

Sending message...

Review It !

0 100

Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide

श्री विजयप्रमोदसूरीजी म.सा.

 

श्री विजयप्रमोदसूरीजी म.सा.

 

आपका जन्म गाँव डबोक (मेवाड़) में गौड़ब्रह्माण परमानन्दजी की धर्मपत्नी पार्वती देवी की कुक्षी में सं. १८५० में हुआ था| सं. १८६३ वैशाख सूद- ३ को दीक्षा ग्रहण की एवं सं. १८९३ जेठ सुद ५ को सुरिपद मिला| आप शास्त्र लेखन कला के प्रेमी थे और आपका अधिकतर समय इसमें ही प्रसार होता था| आपके अनेक हस्तलिखित ग्रन्थ आज भी उपलब्ध है| वृद्धावस्था में आपने आहोर में ही स्तिरथा की| सं. १९२४ में अपने शिष्य रत्न विजयजी को आचार्य पद दिया जो राजेंद्रसूरी नाम से प्रख्यात हुए| सं. १९३४ चैत्र वद अमावस आहोर में आपका स्वर्गवास हुआ|

Vyaktitv(Chief Patron)
slide
slide
slide
slide
slide
Shraddhanjali
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
News
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Suvichar
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide