Feedback Us !

Checking...

Ouch! There was a server error.
Retry »

Sending message...

Review It !

0 100

Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide

श्री विजयरत्नसूरीजी म.सा.

 

श्री विजयरत्नसूरीजी म.सा.

 

आपका जन्म संवत् १७१२ को सेठ सौभाग्यचंदजी की धर्मपत्नी श्रुंगारबाई की कुक्षी से हुआ| आपकी सगाई हो चुकी थी, उसे ठुकराकर १६ वर्ष की वय में दीक्षा ग्रहण कर सं. १७३३ जेठ वद ६ को आचार्यपद प्राप्त किया| जोधपुर के राजा अजितसिंह को उपदेश देकर मुसलामानों ने जिन उपाश्रयो को मस्जिद बनाई थी| उसे पुन: तुड़वाकर उपाश्रय बनवाया| शिथिलता का उन्मूलन कर गच्छमर्यादा प्रवताने में आप कटीबध रहे| आप ३३ शिष्यों के गुरु थे| सं. १७७३ आसोज वद २ उदयपुर में स्वर्गवास हुए|

Vyaktitv(Chief Patron)
slide
slide
slide
slide
slide
Shraddhanjali
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
News
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Suvichar
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide