Feedback Us !

Checking...

Ouch! There was a server error.
Retry »

Sending message...

Review It !

0 100

Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide

श्री विजयसिंहसूरीजी म.सा.

 

श्री विजयसिंहसूरीजी म.सा.

 

सं. १६४४ फागन सुद २ को नथमलजी की धर्मपत्नी श्राविका नायकदेवी के कुक्षी से जन्म हुआ| सं. १६५४ माघ वद २ को आप दीक्षित हुए| सं. १६८४ माघ सुद १० को आपको भट्टारक पदवी देकर गच्छनायक की पदवी से अलंकृत किया| सहस्त्रकूट की रचना आपके ही शास्त्रों में से प्राप्त हुई है, शत्रुंजय तीर्थ पर आदिश्वर भगवान की दायी बाजु, पांच पांडव के देरासर में, मोतिशाह की टुंक में आज भी दर्शनीय एवं पूजनीय है| ६४ वर्ष की दीक्षा पर्याय, २८ साल सूरीपद का पर्याय वाले आप गीतार्थो के पास आलोचना कर व अनशन का र७४ वर्ष का आयुष्य पूर्ण कर सं. १७०८ आषाढ़ सुद २ को समाधिपूर्वक देवलोक हुए|

Vyaktitv(Chief Patron)
slide
slide
slide
slide
slide
Shraddhanjali
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
News
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Suvichar
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide