Feedback Us !

Checking...

Ouch! There was a server error.
Retry »

Sending message...

Review It !

0 100

Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide

श्री वृद्धश्रमासूरीजी म.सा.

 

श्री वृद्धक्षमासूरीजी म.सा.

 

आपका जन्म सं. १७५० में सेठ केशरीमल की पत्नी लक्ष्मी]बाई की कुक्षी से हुआ| रत्नसूरीजी ने ११ वर्ष की उम्र दीक्षा ली एवं सं. १७७२ में आचार्य पद प्राप्त किया| एक समय कारण वश आप बनास नदी उतर रहे थे तब चित्रावेल आपके चरणों में चिपक गई पर आप अन्यत्व भावना से आनंद से चलते रहे, पुन: लौट गई| आजीवन वर्धमान तप किया| आप १८ शिष्यों के गुरु थे| सं. १८२७ बीकानेर में स्वर्गवास हुआ| आपने कई राणा-नवाबो को बोधित किया|

Vyaktitv(Chief Patron)
slide
slide
slide
slide
slide
Shraddhanjali
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
News
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Suvichar
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide