Feedback Us !

Checking...

Ouch! There was a server error.
Retry »

Sending message...

Review It !

0 100

Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide

Swarn Mandir

स्वर्ण मंदिर

 

फालना : नगरपालिका फालना-खुडाला एक प्रगतिशील नगर है| जहां आअज के यूग की हर सुविधा उपलब्ध है| होटल, सिनेमाघर, कॉलेज, दुर्रसंचार, मोबाइल टावर ,मीडिया ,पुलिस थाना, हॉस्पिटल, रेलवे स्टेशन , रोजवेज बस स्टैंड, छात्रवास, विभिन्न जाती-धर्मो के प्रसिद्द मंदिर, नजदीक ही निम्बोरानाथ प्रसिद्ध शिव मंदिर, तहसील कारयालय बाली आद्दी हर तरह की सुविधा के मधेनज़र आस-पास के गावो से धीरे-धीरे परिवार यहां आकर बसने लगे है| शेहरो की फ्लैट संस्कृति यहां भी बढ़ने लगी है |गोडवाड़ के हर तीर्थ व ग़ाव हेतु यह प्रवेशद्वार के रूप में प्रसिद्ध है| हर जगह के आवागमन के साधान यहां सुलभता से हासिल हो जाते है |

***********************************************

Falna_Golden_Temple_1

* स्वर्ण मंदिर : यह उतर पश्चिम रेलवे से मुंबई-दिल्ली रेलमार्ग पर स्थित एक महत्वपूर्ण रेलवे स्टेशन है, जहां से पुरे शेत्र में सबसे अधीक आवागमन होता है |

* यह राष्ट्रीय राजमार्ग नं. १४ के सांडेराव से १२ की. मी. दूर मीठदी नदी के पास बसा है|स्टेशन से लगाकर मुखय बाजार में स्वर्ण से मंडित त्रिशिखरी अलौकिक जिन मंदिर में शयाम वर्णी कलात्मक परिकर से यूक्त मु. श्री शंकेश्वर पार्श्वनाथ प्रभु की सुंदर प्रतिमा प्रतिष्टित है| इसकी प्रथम प्रतिष्ठा वि. सं. १९७० में भट्टारक् आ. श्री मुनिचंद्रसूरीजी के करकमलों से हुई| कालांतर ने जब इसके जिणोरद्वार की आवष्यकता हुई तो आ. श्री जिनेन्द्रसूरीजी के पावन आशीर्वाद एवं निर्देशन से यह कारय निर्विघ्न संपन्न हुआ, जिसमे आ. श्री पद्मसूरीजी व मुनिभूषण श्री वल्लभदत्तजी का अमूल्य सहयोग रहा|

* वीर नि. सं. २५०५, वि. सं. २०३५, जेष्ठ शु. १४, शनिवार, दी. ९ जून १९७९ को गोडवाड़ सादडी रत्न प. पू. आ. श्री ह्रींकारसूरीजी , आ. श्री पद्मसुर्जी, मरुधररत्न श्री वल्लभदत्त विजयजी आ. ठा. की पावन निश्रा में मू. श्री शंकेश्वर पार्श्वनाथ , श्री शीतलनाथ एवं श्री नेमिनाथ आदि जिनबिंबो की प्रतिष्ठा संपन्न हुई| मुखय ध्वजा के व स्वर्ण मंदिर उद्घाटन समारोह के लाभार्थी श्री निहालचंदजी फोजमलजी पुनमिया परिवार थे| इस्सी मुहर्त में आ. श्री वल्लभसूरीजी गुरुमंदिर की भी प्रतिष्ठा संपन्न हुई |

* इस मंदिर ने अपने रजत जयअंती वर्ष में एक नया इतिहास रचा| इसने “स्वर्ण मंदिर” का आकार लेकर जैन समाज का प्रथम स्वर्ण मंदिर होने का गौरव प्राप्त किया|

* इसका उद्घाटन वि. सं. २०६०, जेष्ठ सु. १४, बुधवार, दी. २.६.२००४ को आ. श्री चन्द्रानसागरसूरीजी म. सा. आ. ठा. पावन निश्रा तत्कालीन उपराष्ट्रपति श्री भैरोसिंहजी शेखावत एवं मुखयमंत्री श्रीमती वसुंधराराजे सिंधिया के करकमलों द्वारा संपन्न हुआ| इसी वर्ष में “अतिथि गृह” नूतन आधुनीक धर्मशाला एवं भोजनशाला का निर्माण हुआ, जिससे आज सैकड़ो लोग लाभावान्ति हो रहे है| भोयरे के कांच मंदिर में विशाल पार्श्वनाथ प्रभ प्रतिमा के साथ प्रभु के १० भवों के आकर्षक पट बने हुए है| मंदिर के पास गुरु मंदिर में पंजाब केशरी गोडवाड़ उधारक श्री वल्लभसूरीजी की प्रतिमा, चरनायूल आदि स्थापित है| भायरे के द्वार के पास आ. श्री ललितसूरीजी के समाधि-स्थल पर छत्री में, चरण-पादुका स्थापित है | गुरुदेवश्री का स्वर्गवास वि. सं. २००६, माघ शु. ९, शुक्रवार, दी. २७.1.१९५० को खुडाला में हुआ था एवं दी. २८.१.१९५० को स्वर्ण मंदिर परिसर में अग्नि संस्कार हुआ, जहां आज छत्री बनी हुई है|वि. सं. २०३५, जेष्ठ सु. १४, शनिवार , दी .९.६.१९७९ को आ. श्री ह्रींकारसूरीजी के हस्ते प्रतिष्ठा संपन्न हुई |

 


श्री जैन श्वेताम्बर धर्मनाथ पार्श्वनाथ देवस्थान ट्रस्ट

खुडाला-फलना

 

मैनेजिंग – ट्रस्टी

अध्यक्ष – शा    इन्दरचन्द मूलचन्दजी राणावत

शा    तेजराज वोरीदासजी पुनमिया

शा     सूरजमल सरदारमलजी जैन


ट्रस्टी

शा    जयन्तिलाल बाबुलालजी खांटेड

शा    शान्तिलाल देविचन्दजी बोकड़िया

शा    शान्तिलाल रूपचंदजी पारेख

शा    अमृतलाल छजमलजी पुनमिया

शा    दिलीपकुमार निहालचंदजी पुनमिया

शा    महेन्द्रकुमार चम्पालालजी जोधावत

शा    हीराचन्द वालचन्दजी परमार

शा    मीठालाल पुखराजजी पुनमिया


सहवरण

शा    लक्ष्मीचंद वालचन्दजी राठोड़

शा    चम्पालाल राजमलजी सोलंकी

शा    महावीरकुमार थानचंदजी पुनमिया


सलाहकार

शा    जावंतराज निहालचंजी पालरेचा

शा    नगराज पुखराजजी राणावत

शा    शान्तिलाल गुलाबचन्दजी भंडारी

शा    प्रकाशचन्द ओटरमलजी बोहरा

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (If you liked it,Please rate this post)

Loading...
Vyaktitv(Chief Patron)
slide
slide
slide
slide
slide
Shraddhanjali
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
Search Here
News
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Suvichar
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
slide
slide
slide
slide
slide
slide
slide
Advertisement

slide
slide
slide
slide
slide